कविता- पेड़ से गिरे पत्ते



पेड़ पर से
जहाँ-जहाँ से गिरे थे पत्ते
पतझड़  में
वहाँ-वहाँ फूटती कोपलों से
झाँक रहें हैं नन्हें -नन्हें
कोमल चिकने पात ...
पत्ते जो झडकर  गिरे थे
पसरे थे धरती पर दूर-दूर तक
कुछ जले, कुछ मिट्टी में दफ़न हुए
न वे हिंदू थे, न मुसलमान
फिर भी इसी मिट्टी में समाये
अपना-अपना भाग्य उनका....
पर कभी कुछ खत्म हुआ है क्या?
मरा है कभी क्या कोई
देह मरती है आत्मा नहीं
आत्मा कोंपल की तरह
 लेती रहती है पुनर्जन्म..........

5 टिप्‍पणियां:

  1. टूटी शाखें नयी कोपलों से भरती रही है हमेशा ...
    सुन्दर भाव ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. देह मरती है आत्मा नहीं
    आत्मा कोंपल की तरह
    लेती रहती है पुनर्जन्म....Nice

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...